BEd vs BTC: बीएड और बीटीसी मामले पर सुप्रीम कोर्ट से अभ्यर्थियों की गुहार, रातोंरात बदल जाएगा फैसला

Join Our WhatsApp Group Join Now
Join Us On Telegram Join Now
बीएड और बीटीसी मामले पर सुप्रीम कोर्ट से अभ्यर्थियों की गुहार, रातोंरात बदल जाएगा फैसला

BEd vs BTC 2023 : अगर आप बीएड के अभ्यर्थी हैं, तो आपको बता दें कि आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण खबर सामने आ रही है। ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट ने बीएड बनाम बीटीसी मामले में बीटीसी अभ्यर्थियों के पक्ष में फैसला सुनाया था। जहां अब अभ्यर्थियों के दो पक्ष बंट गए हैं, जिसमें से पहला पक्ष बीएड अभ्यर्थियों का है, तो वहीं दूसरा पक्ष बीटेक अभ्यर्थियों का है। जहां फैसला आने के बाद दोनों की पक्षों में टकराव की स्थिति है। बता दें कि फिलहाल सुप्रीम ने बीएड अभ्यर्थियों कोई भी राहत देने से इंकार किया है। आइए जानते हैं क्या है पूरी खबर…

अभ्यर्थियों ने सुनाई व्यथा (Candidates narrated the agony) – BEd vs BTC

सुप्रीम कोर्ट द्वारा बीएड अभ्यर्थियों के खिलाफ सुनाए गए फैसले ने बीएड अभ्यर्थियों को परेशानी में डाल दिया है। जहां अब बीएड अभ्यर्थी इस फैसले के बाद से ही काफी गुस्से में भी दिखाई दे रहे हैं। बता दें कि बीएड अभ्यर्थियों का कहना है कि हमने बीएड के लिए अपने जीवन के 2 साल दिए और करीब 1.5 लाख रूपये की फीस दिए। परंतु इसके बाद भी उनकी मेहनत का कोई परिणाम नहीं निकला। गुस्साए बीएड अभ्यर्थियों ने बताया कि उन्होंने काफी मेहनत से टीईटी और सीटीईटी पास किया, लेकिन पता चला कि अब अभ्यर्थी प्राइमरी टीचर ही नहीं बन सकेंगे।

CISF Recruitment 2023: सीआईएसएफ के 18355 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन हुआ जारी, इस दिन से आवेदन हो सकता है शुरू

ये है सुप्रीम कोर्ट का फैसला (This is the decision of the Supreme Court) –

सुप्रीम कोर्ट में बीएड बनाम बीटेक मामले में 11 अगस्त को जस्टिस संजय किशनकौल के नेतृत्व वाली खंडपीठ ने बड़ा फैसला सुनाया था। जहां सुप्रीम कोर्ट ने एनसीपीई व केन्द्र सरकार की एसएलपी सहित मुकेश कुमार व अन्य की याचिकाओं को खारिज कर दिया। जहां उन याचिकाओं में बीएड डिग्री धारकों को भी श्रेणी अध्यापक भर्ती लेवल 1 के लिए पात्र माने जाने की बात कही गई थी। हालांकि इसे सुप्रीम कोर्ट ने सिरे से खारिज करते हुए कहा कि इस भर्ती के लिए केवल BTC डिप्लोमा धारक ही पात्र माने जायेंगे। ज्ञात हो कि राजस्थान हाई कोर्ट ने भी यही फैसला सुनाया था।

SBI Recruitment 2023, एसबीआई बैंक में क्लर्क के 9623 और चपरासी के 16218 रिक्त पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन हुआ जारी, इस दिन से आवेदन शुरू

आंदोलन के लिए मजबूर हो रहे अभ्यर्थी (Candidates being forced to agitate) –

सुप्रीम कोर्ट द्वारा बीएड अभ्यर्थियों के खिलाफ सुनाए गए फैसले से बीएड अभ्यर्थी काफी दिनों से बेहद निराश हैं। बीएड अभ्यर्थियों का कहना है कि उन्होंने भी उतनी ही मेहनत की है, जितनी की बीटेक के अभ्यर्थियों ने, तो फिर उनके लिए सुप्रीम कोर्ट ने इस प्रकार का फैसला क्यों सुनाया। बता दें कि बीएड के सभी अभ्यर्थी सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ हैं। जहां बीएड अभ्यर्थियों ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के विरोध में आंदोलन करने की भी धमकी दी है। अभ्यर्थियों ने कहा है कि अगर सुप्रीम कोर्ट फैसले में बदलाव नहीं करेगा, तो वह प्रदर्शन करेंगे।

क्या बदल जायेगा सुप्रीम कोर्ट का फैसला (Will the Supreme Court’s decision change?) –

जिस दिन सुप्रीम कोर्ट ने बीएड अभ्यर्थियों के खिलाफ फैसला सुनाया, उस दिन से ही अभ्यर्थी काफी दुखी हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि वे इसको लेकर आंदोलन करेंगे, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट को अपने ही फैसले पर दोबारा विचार करना होगा। इतना ही नहीं अभ्यर्थियों का तो यह भी कहना है कि सुप्रीम कोर्ट को अपना फैसला बदलना भी होगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनाया गया यह फैसला पूरी तरफ गलत है। बता दें कि अभ्यर्थी कई बार फैसले को बदलने की अपील भी कर चुके हैं। हालांकि अभी तक कुछ भी स्पष्ट नहीं हो पाया है।

Leave a comment